Sale!

Sonal (सोनल)- 10gm

Availability: Out of stock

650.00 645.00

Out of stock

Description

Kind (प्रकार)- Chilli (मिर्च)

Variety (किस्म)-  Sonal (सोनल)

Produced & Mktd By (उत्पादक एवं विपणन कर्ता)- Rasi HyVeg Pvt Ltd (रासी हाई वेज प्रा. लि.))

Pack Size (मात्रा)- 10 Gm (10 ग्राम)

 

________________________________________________________________________

मिर्च की खेती

आदर्श जलवायु- मिर्च उष्णकटिबंधीय और उपोष्णकटिबंधीय क्षेत्रों की फसल है। यह तापमान सीमा 20 से 30 डिग्री सेल्सियस में अच्छी पैदावार देती है। उच्च तापमान फूल और फल झड़ने का कारण बन सकता है जिसके परिणामस्वरूप कम उपज होती है

किस्में- मिर्च की कई किस्में बाजार में उपलब्ध हैं। किसानों को सलाह दी जाती है कि अच्छी उपज के लिए हाइब्रिड बीजो उपयोग करें। कुछ अच्छे संकर
उत्तल, सीतारा, सितारा गोल्ड (सेमिनिस बीज), क्रांति,यू एस 720, यू एस 611 (नुन्हेम्स सीड), सोनल

बीज दर- 200- 250 ग्राम संकर बीज एक हेक्टेयर के लिए पर्याप्त है

नर्सरी तैयारी: मिट्टी में ठीक लोच लाने के लिए नर्सरी की मिट्टी अच्छी तरह से हल से जुताई की जानी चाहिए। 1.2 मीटर चौड़े ज़मीन से उठे हुए बेड पर नर्सरी उगाया जा सकता है। बेड की लंबाई को सुविधा के अनुसार रखा जा सकता है।

भूमि और भूमि तैयारी: – मिर्च मिट्टी और जलवायु की विविधता में उगाया जा सकता है। 6.5 से 7.5 के पीएच मान के साथ लोमी मिट्टी मिर्च की खेती के लिए उत्कृष्ट हैं।

प्रतिरोपण: – जब पौधे 15 सेमी की ऊंचाई प्राप्त करते हैं तो मिर्च को प्रत्यारोपित किया जा सकता है। आम तौर पर आदर्श परिस्थितियों में इसे बुवाई के 30 दिनों के बाद ट्रांसप्लांट किया जा सकता है।
अंतर- 75 सेमी X 60 सेमी मिर्च फसल के लिए पौध से पौध ओर लाइन से लाइन आदर्श अंतर है

सिंचाई- ड्रिप सिंचाई मिर्च फसल के लिए सबसे उपयुक्त तरीका है।यदि आपके पास सिचाई का कोई अन्य साधन है तो अको साप्ताह मे एक बार पनिलगाना चाहिए|

फसल तुड़ाई- मिर्च की तुड़ाई अपनी किस्म के अनुसार किया जाता है। हरे मिर्च मिर्च को 75 दिनों के प्रत्यारोपण के बाद तुड़ाई की जा सकती है और हर 15 दिनों के अंतराल में तुड़ाई की जा सकती है।

ख़ाद-
गोबर की खाद-30 टन / प्रति हेक्टेर

एनपीके -30: 80: 80 किलो / हेक्टेर

 

_____________________________________________________________________________

Chilli Cultivation Practices-

Ideal Climate- Chilli is the crop of tropical & subtropical Regions. It grows well in the temperature range of 20 to 30 degree Celsius. High temperature can cause flower & fruit drop resulting low yield

Varieties- Many varieties of the Chilli are available in the market. Farmers are advised to use Hybrid verities for god yield. Some of the good hybrids are Uttal, Sitara, Stiara Gold (Seminis Seed), Kranti, US 720, US 611 (Nunhems), Sonal (Rasi)

Seed Rate- 200- 250 Gms hybrid seed is sufficient for one hectare of the land

Nursery Preparation: The soil of the nursery should be well ploughed to bring fine tilth in the soil. Nursery can be grown on 1.2 Meter wide ridge beds. Length of the bed can be kept as per convenience.

Land & land Preparation: – Chilli Can be grown in variety of Soils and Climate. Loamy soils with PH ranhe of 6.5 to 7.5 are excellent for cultivation of Chilli.

Transplanting:- Chilli can be transplanted when the plants achieve the height of 15 Cms. Generally in the ideal conditions it can be transplanted after 30 days of the sowing.

Spacing- 75 cm X60 cm is the ideal spacing for the chilli crop

Irrigation- Drip Irrigation is the most suitable method for chilli crop. If you have any other irrigation method than you are suggested the weekly irrigation in the field

Harvesting- Chilli is to be harvesting is to be done as per its variety. Green chilli hybrids can be harvested after 75 days of transplanting and can be harvested in every 15 days interval.

Fertilizers-

FYM-30MT/Hac

NPK-30:80:80 Kg/Hac

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Sonal (सोनल)- 10gm”

Your email address will not be published. Required fields are marked *